घोटालों का बोझ आम लोगो पर !!!

8 months 8 Views

घोटालों का बोझ आम लोगो पर !!!
News Track Hindi
8 months
8 Views

Description:

माल्या, पीएनबी, रोटोमैक जैसे घोटालों ने बैंकों की हालत खराब कर दी है। भारतीय बैंकों पर सितंबर 2017 तक नॉन परफॉर्मिंग एसेट (एनपीए) या डूबत खाता 8.29 लाख करोड़ रुपए पहुंच गया है। यानी यह बैंकों द्वारा बांटे गए कर्ज का वो पैसा है जिसकी रिकवरी की संभावना नहीं है। आसान भाषा में समझें तो यह इतना पैसा है कि देश की 133 अरब आबादी से अगर इस पैसे की वसूली की जाए तो हर शख्स को 6,233 रुपए देने होंगे। वहीं, उद्योगों पर 28.92 लाख करोड़ रुपए का कर्ज है। अगर देश के हर व्यक्ति से रकम वसूली जाए तो हर एक को 4195 रुपए देने होंगे।

Read More

Comments:

Comment

Autoplay